WhatsApp Hindi Shayari Download for Android Phones

Romantic poems are merely erotic to listen. At times it is hard to discover the words, even in case you have warm fuzzies in your heart. So you may be finding the ideal point here.

 

अब भी रौशन है तेरी याद से घर के कमरे
रोशनी देता है अब तक तेरा साया मुझको

मेरी ख़्वाहिश थी की मैं रौशनी बाँटू सबको
जिंदगी तूने बहुत जल्द बुझाया मुझको

चाहने वालों ने कोशिश तो बहुत की लेकिन
खो गया मैं तो कोई ढूँढ न पाया मुझको

सख़्त हैरत में पड़ी मौत ये जुमला सुनकर
आ, अदा करना है साँसों का किराया मुझको

शुक्रिया तेरा अदा करता हूँ जाते-जाते
जिंदगी तूने बहुत रोज़ बचाया मुझको

ना जन्नत मैंने देखी है ना जन्नत की तवक्क़ो है
मगर मैं ख़्वाब में इस मुल्क का नक़शा बनाता हूँ

मुझे अपनी वफ़ादारी पे कोई शक नहीं होता
मैं खून-ए-दिल मिला देता हूँ जब झंडा बनाता हूँ

कभी शहरों से गुज़रेंगे कभी सेहरा भी देखेंगे,

हम इस दुनिया में आएं हैं तो ये मेला भी देखेंगे ।

तेरे अश्कों की तेरे शहर में क़ीमत नहीं लेकिन,
तड़प जाएंगे घर वाले जो एक क़तरा भी देखेंगे ।

मेरे वापस ना आने पर बहुत से लोग ख़ुश होंगे,
मगर कुछ लोग मेरा उम्र भर रस्ता भी देखेंगे ।

ये दरवेशों कि बस्ती है यहाँ ऐसा नहीं होगा,
लिबास-ए-ज़िन्दगी फट जाएगा मैला नहीं होगा !

शेयर बाज़ार की क़ीमत उछलती गिरती रहती है,
मगर ये खून-ए-मुफ़लिस है कभी महंगा नहीं होगा !

Hindi WHATSAPP Shayari Collection Of Two Lines Shayari

Most people are finding the latest dosti shayari accumulation. A great deal of men and women indulge in this type of shayari since they have a frank, direct, easy and unpretentious language and in addition, they bring them lots of likes when they’re shared in social networking. Nothing and nobody matters more than this distinctive person. Mothers also provide some gifts and a great deal of love and care to their kids. You aren’t alone, my friend. But, what I have observed the a lot of the lovers are not able to express their feelings for Lovers directly.

परदेस जाने वाले कभी लौट आएँगे,
लेकिन इस इन्तिज़ार में आँखें चली गईं

वहां आसाइशें कम थीं तमन्नाएं ज़ियादा थीं,
यहाँ पर तेल नो मन है तो राधा छोड़ आएं हैं !

ज़रा सी बात है लेकिन हवा को कौन समझाए,
दिये से मेरी माँ मेरे लिए काजल बनाती है !